Residential Status Income Tax Notes

Residential Status Income Tax Notes

Residential Status Income Tax Notes :- hello this is article of the income tax section of residential status.  its an important topic to know how many tax paid and who people was tax pay..

Determining the taxpayer’s resident status

Residents of a person under the Income Tax Act in the last year will depend on his stay in India, citizenship and resident status both are different concepts to be non-resident for an Indian national income that is possible and so in need of an income tax a person who is not a citizen of India

Be resident for planning and resident status of an individual to determine the tax had to be given up to him and may change over years but not citizenship

To an approach of resident status in accordance with Section 6 of the Income Tax Act has been divided into the following three categories:

  1. Resident and ordinarily resident in India
  2. Exceptional resident in India
  3. Resident

Different types according to the Income Tax Act, taxpayers such persons themselves Hindu undivided family follows that the creation of separate rules for determining the direct resident community company etc. Individuals

  1. Basic Conditions
    • The total of 182 days or more in the last year in India
    • I am in total 7 days or more in India last year and last year in the 4 years prior to 365 days or more in India

exception :

      • The following conditions for 60 days in the above baseline conditions (2) the taxpayer is required to stick to 180 days last year in India
      • Indian nationals who are employed outside India in the last year
      • Such as Indian citizens who are members of the crew of the fleet of an Indian ship last year leave India
      • How Indian citizen or Indian origin who comes to visit in India remains out of India last year
    • Additional Terms
  • He was 10 years old resident of at least 2 years I Former India last year and
  • I have a total of 7 years prior to last year’s 730 days or be more in India

Refers to a person of Indian origin – a person shall be deemed to be of Indian origin if his own parents grandparents or birth of one of the grandfather also was in undivided India

Refers to undivided India – refers to undivided India from India at a time when there was no partition of India and Pakistan

Days qualified important point to keep in mind with regard to the calculation

  1. It is not necessary that the person you are constantly in India may be abroad in between have to be in India for a total denial of days in a year
  2. Staying in one place in India or will not require the shelter to stay at any place in India
  3. If you will come to India and not be known at the time of the day to leave India in India in order to calculate the days of living in India and two days to India

Resident status of a person on the basis of the above conditions can be determined as follows

  • Ordinarily resident person – if a person will be treated as ordinarily resident for tax in India to even complete a full bet at least one of the above mentioned basic conditions and both extra as it related to last year
  • Exceptional resident person – if a person will be treated as ordinary resident for one or do not have a detailed complete it related income tax assessment in India for the last year in one condition at least in suitable described basic terms and additional saints
  • Non-resident person – if someone does not have a head full of the above mentioned basic conditions so that the respective previous year shall be deemed non-resident for tax returns in India it would be unimportant in this case that he is doing additional conditions are met or not

NOTE – Taxpayer any acknowledges his exceptional resident or non-resident in the last year so it will load the donor himself to prove

Hindu undivided family (HUF) The determination of the resident status under section 6 (2)

There are three types in terms of residents like Hindu undivided family

  • Ordinarily resident family – if a Hindu undivided family will be treated as ordinarily resident in India in the last year
      1. The family managed and controlled wholly or partly located in India
      2. The family of the actor perfectly set up additional two conditions for the person I am that he is at least resident and 7 years to 2 years in the 10 years prior to last year at least 730 days in India
  • Exceptional resident family – if a Hindu undivided family will be exceptional resident in India
      1. Full or partial control of the family in India
      2. India does not meet one of the conditions of the following two additional terms or only an additional head there
        1. He was less than 2 years old, a resident of 10 years preceding the last year or
        2. At least 730 days in the 7 years prior to last year in India
  • Non-resident family – if control of a Hindu undivided family as a whole in that State outside India will be called Resident

Firm or determine the resident status of the community of persons with section 6 (2)

Form the perspective of resident status for income tax are two types

  • Resident firm – a firm or last year the community of persons deemed to be resident in India if he controls all or partially stabilized in India
  • Non-resident firm – a firm or individuals in the community in the last year will be considered a non-resident in India if their management or control outside the country

NOTE – Management and control are instructions concerning the operation of that space is created policy to run business the place is hit Goa and business

Determine the company’s resident status under section 6 (3)

Income tax for the company from a Native American perspective position is of two types

  • Resident company – if a company is located in the company or its management and control completely in India, he will be treated as a resident of this means that
    1. Each company will be treated as resident accede to India
    2. Took stuff out of India foreign company while residents may only assume India’s overall management and control of India
  • Tribal company – a company will be treated as non-resident who is not an Indian company and its entire management and control in India thus individuals and Hindu undivided family ordinarily resident ordinary resident and non-resident are only community of individuals and the company is only a resident or non-resident

Note: Management and control of a company is considered to be the place where the meeting of its Board of Directors

Determine the resident status of other Section 6 (4)

Other person as shall be resident only in India when their management and control fully or partially located in India if he manages and controls completed outside India, he will be treated as non-resident

Note – If a person resident in India for a source that will be considered as resident in India for all other sources

Based on resident status area of ​​the total income of the taxpayer or inheritance tax

Income Tax Act load on the taxpayer in accordance with Section 5 of the 1961 his resident status and whence came that depends on and how is accrued or received significantly following the rules in this regard

  • Resident taxpayer’s total income area – are included in the total income of a resident taxpayer, whether he went to get by any means
      1. Last year, come all went kicked received or received by the taxpayer or on behalf of the Indian
      2. Last year, the taxpayer had a win over India Shining or income went deemed Jitia Rise Up
      3. Last year, the taxpayer would have all been accrued or rise out of the Indian
  • Sector revenues exceptional resident taxpayer – is included in the following income in the total income of an exceptional resident
      1. Considered last year by the taxpayer or received or received in India on behalf of went all revenue
      2. Last year, the taxpayer was present or arise in India or all went deemed Jitia rise up earnings
      3. India has received or won over a business out of the control of the country or come to any money set to be held in India
  • Resident area of the total income of the taxpayer – is inserted the following income in the total income of a non-resident taxpayer
    1. Treated last year came by the taxpayer received or received in India on behalf of went all revenue
    2. Last year was the grandfather Jitia rise up in India or all proceeds went deemed Jitia Rise Up

Note – If there without feeling is that prior to last year tomorrow and will not be included if you went earnings coming out of India last year is brought to India in taxable income last year that income because it the transfer of income not come

Rules of tax-related loads at a Glance

  1. All taxpayers conducting services received in India or deemed received is taxed at
  2. All taxpayers conduct that are considered acquired or procured in India have to pay tax
  3. India controlled outside going to get out here and get India to India and taxed only resident taxpayers Commission money set outside India
  4. Resident taxpayers are taxed on the domestic and foreign conduct of all kinds related to last year whether income was nowhere to win over or
  5.  An unusual resident is taxed only on acquired outside India and the business income when business control India or have been abroad have a profession whose installation in India
  6. NRI is received only in India have to pay tax on the accrued held in India have to pay tax on the remaining Commission

Residential Status Income Tax Notes Hindi

करदाता की निवासी स्थिति का निर्धारण

आयकर अधिनियम के अंतर्गत किसी व्यक्ति के निवासी स्थिति गत वर्ष में उसके भारत में रहने पर निर्भर करती है नागरिकता एवं निवासी स्थिति दोनों अलग-अलग अवधारणाएं हैं संभव है कि एक भारतीय नागरिक आयकर हेतु अनिवासी हो और उसे आयकर देने की आवश्यकता में हो इसी प्रकार एक व्यक्ति जो भारतीय नागरिक नहीं है

कर नियोजन हेतु निवासी हो और उसे आए देनी कर देना पड़े आयकर के निर्धारण हेतु किसी व्यक्ति की निवासी स्थिति व अधिक वर्ष बदल सकती है परंतु नागरिकता नहीं

आयकर अधिनियम की धारा 6 के अनुसार निवासी स्थिति के दृष्टिकोण से करता तक को निम्नलिखित तीन श्रेणियों में विभाजित किया गया है

  1. भारत में निवासी और साधारण निवासी
  2. भारत में असाधारण निवासी
  3. अनिवासी

आयकर अधिनियम के अनुसार विभिन्न प्रकार के करदाताओं जैसे व्यक्ति स्वयं हिंदू अविभाजित परिवार व्यक्तियों का समुदाय कंपनी आदि के निवासी सीधी के निर्धारण के लिए अलग-अलग नियम बनाए गए हैं जो निम्नलिखित प्रकार हैं

  1. आधारभूत शर्तें
    • वह गत वर्ष में कुल 182 दिन या उससे अधिक भारत में रहा हो
    • मैं गत वर्ष में कुल 7 दिन या उससे अधिक भारत में रहा हो एवं गत वर्ष पूर्व के 4 वर्ष में 365 दिन या उससे अधिक भारत में रहा हो

अपवाद :

      • निम्नलिखित स्थितियों में उपरोक्त आधारभूत शर्ते (2) मे 60 दिन के स्थान पर करदाता क्या भारत में गत वर्ष में 180 दिन रूके रहना आवश्यक होगा
      • ऐसे भारतीय नागरिक जो गत वर्ष में भारत से बाहर रोजगार के लिए जाते हैं
      • ऐसे भारतीय नागरिक जो गत वर्ष में किसी भारतीय जहाज के बेड़े के चालक दल के सदस्य के रूप में भारत छोड़कर जाते हैं
      • कैसे भारतीय नागरिक अथवा भारतीय मूल का व्यक्ति जो भारत के बाहर रहता है एवं गत वर्ष में भारत में भ्रमण के लिए आता है
    • अतिरिक्त शर्तें
  • वह गत वर्ष में पूर्व के 10 वर्ष मैं कम से कम 2 वर्षों मैं भारत का निवासी रहा हो और
  • मैं गत वर्ष के पूर्व के 7 वर्षों में कुल 730 दिन या उससे अधिक भारत में रहा हो

भारतीय मूल के व्यक्ति से आशय – किसी व्यक्ति को भारतीय मूल का समझा जाएगा यदि उसका स्वयं का माता पिता का दादा-दादी या नाना नानी में से किसी एक का जन्म भी अविभाजित भारत में हुआ हो

अविभाजित भारत से आशय – अविभाजित भारत से आशय उस समय के भारत से हैं जब भारत और पाकिस्तान का विभाजन नहीं हुआ था

दिनों की गणना के संबंध में ध्यान रखने योग्य महत्वपूर्ण बिंदु

  1. यह आवश्यक नहीं है कि व्यक्ति भारत में लगातार रहे वह बीच-बीच में विदेश जा सकता है उसे वर्ष भर में कुल मिलाकर वंचित दिनों के लिए भारत में रहना ह
  2. भारत में एक ही स्थान पर रहना या करना आवश्यक नहीं रहने से आश्य भारत की किसी भी स्थान पर रहने से है
  3. यदि भारत में आने और भारत छोड़ने वाले दिनों का स्पष्ट समय ज्ञात नहीं हो तो भारत में रहने के दिनों की गणना करने के लिए भारत में आने तथा भारत से जाने वाले दोनों दिन शामिल होंगे

उपरोक्त शर्तों के आधार पर एक व्यक्ति की निवासी स्थिति निम्नलिखित प्रकार निर्धारित की जा सकती है

 

  • साधारण निवासी व्यक्ति – यदि कोई व्यक्ति उपरोक्त वर्णित आधारभूत शर्तों में से कम से कम एक शर्त पूरी करें तथा साथ ही दोनों अतिरिक्त सकते भी पूरी करें तो वह संबंधित गत वर्ष के लिए भारत में आयकर हेतु साधारण निवासी माना जाएगा
  • असाधारण निवासी व्यक्ति – यदि कोई व्यक्ति उपयुक्त वर्णित आधारभूत शब्दों में से कम से कम एक शर्त पूरी करें तथा अतिरिक्त संतों में से कोई एक अथवा एक विस्तृत पूरी नहीं करें तो वह संबंधित गत वर्ष के लिए भारत में आयकर निर्धारण हेतु असाधारण निवासी माना जाएगा
  • अनिवासी व्यक्ति – यदि कोई व्यक्ति उपरोक्त वर्णित आधारभूत शर्तों में से कोई एक भी सर पूरी नहीं करें तो वह संबंधित गत वर्ष के लिए भारत में आए कर हेतु अनिवासी समझा जाएगा इस स्थिति में यह महत्वहीन होगा कि वह अतिरिक्त शर्तें पूरी कर रहा है अथवा नही

 

नोट – करदाता किसी भी गत वर्ष में अपने को असाधारण निवासी अथवा अनिवासी मानता है तो यह सिद्ध करने का भार स्वयं कर दाता का होगा

हिंदू अविभाजित परिवार (H.U.F) यह तो निवासी स्थिति का निर्धारण धारा 6(2)

हिंदू अविभाजित परिवार की  भांति निवासी की दृष्टि से तीन प्रकार के होते हैं

 

  • साधारण निवासी परिवार – एक हिंदू अविभाजित परिवार गत वर्ष में भारत में साधारण निवासी माना जाएगा यदि
      1. परिवार का प्रबंध एवं नियंत्रण पूर्ण या आंशिक रूप से भारत में स्थित होता तथा
      2. परिवार का कर्ता व्यक्ति के लिए निर्धारित अतिरिक्त दोनों शर्तें पूरी करता हूं अर्थात वह गत वर्ष के पूर्व से 10 वर्ष में कम से कम 2 वर्ष निवासी एवं 7 वर्ष में कम से कम 730 दिन भारत में रहा हो
  • असाधारण निवासी परिवार – एक हिंदू अविभाजित परिवार भारत में असाधारण निवासी माना जाएगा यदि
      1. परिवार के संपूर्ण या आंशिक नियंत्रण भारत में हो तथा
      2. भारत का करता निम्नलिखित दो अतिरिक्त शब्दों में से कोई भी शर्त पूरी नहीं करता है या केवल एक अतिरिक्त सर कोई करता हो
        1. वह गत वर्ष के पूर्व के 10 वर्षों में कम से कम 2 वर्ष निवासी रहा हो अथवा
        2. गत वर्ष के पूर्व के 7 वर्षों में कम से कम 730 दिन  भारत में रहा हो
  • अनिवासी परिवार – यदि किसी हिंदू अविभाजित परिवार का नियंत्रण संपूर्ण रूप से भारत के बाहर अर्थात विदेश में हो तो वह अनिवासी कहलाएगा

फर्म या  व्यक्तियों के समुदाय की निवासी स्थिति का निर्धारण धारा 6 (2)

आयकर हेतु निवासी स्थिति के दृष्टिकोण से फॉर्म दो प्रकार की होती हैं

  • निवासी फर्म – कोई फर्म या व्यक्तियों का समुदाय गत वर्ष में भारत में निवासी माना जाएगा यदि उसका नियंत्रण संपूर्ण या आंशिक रूप से भारत में स्थिर हो
  • अनिवासी फर्म – कोई फर्म या व्यक्तियों का समुदाय गत वर्ष में भारत में अनिवासी माना जाएगा यदि उसका प्रबंध या नियंत्रण भारत के बाहर स्थिर हो

नोट – प्रबंध एवं नियंत्रण उस स्थान से गोवा मारा जाता है जिस स्थान पर व्यापार चलाने की नीति बनाई जाती है एवं व्यापार के संचालन से संबंधित निर्देश दिए जाते हैं

कंपनी की निवासी स्थिति का निर्धारण धारा 6(3)

आय कर हेतु निवासियों स्थिति के दृष्टिकोण से कंपनी दो प्रकार की होती है

  • निवासी कंपनी – यदि एक कंपनी भारतीय कंपनी है अथवा उसका प्रबंध एवं नियंत्रण पूर्ण रूप से भारत में स्थित है तो वह निवासी मानी जाएगी इसका अर्थ हुआ कि
    1. भारत में सम्मिलित प्रत्येक कंपनी निवासी मानी जाएगी
    2. भारत के बाहर सामान ले ली विदेशी कंपनी भारत में निवासी तभी मान जाएगी जबकि उसका संपूर्ण प्रबंध एवं नियंत्रण भारत से होता है
  • आदिवासी कंपनी – ऐसी कंपनी अनिवासी मानी जाएगी जो भारतीय कंपनी नहीं है तथा उसका संपूर्ण प्रबंध एवं नियंत्रण भारत में नहीं है इस प्रकार व्यक्ति एवं हिंदू अविभाजित परिवार साधारण निवासी असाधारण निवासी एवं अनिवासी होते हैं केवल व्यक्तियों के समुदाय एवं कंपनी केवल निवासी या अनिवासी होती है

नोट : एक कंपनी का प्रबंध एवं नियंत्रण उस स्थान पर हुआ माना जाता है जहां उसके संचालक मंडल की मीटिंग होती है

अन्य व्यक्ति की निवासी स्थिति का निर्धारण धारा 6(4 )

अन्य व्यक्ति भारत में निवासी तभी माने जाएंगे जब उनका प्रबंध एवं नियंत्रण पूर्ण अथवा आंशिक रूप से भारत में स्थित हो यदि उनका प्रबंध एवं नियंत्रण पूर्ण रूप से भारत के बाहर स्थित है तो वह अनिवासी माने जाएंगे

नोट – यदि कोई व्यक्ति एक स्रोत के लिए भारत में निवासी है तो वह अन्य सभी स्रोतों के लिए भारत में निवासी ही माना जाएगा

निवासी स्थिति के आधार पर करदाता की कुल आय का क्षेत्र अथवा कर भाग

आयकर अधिनियम 1961 की धारा 5 के अनुसार करदाता पर कर भार उसके निवासी स्थिति एवं इस बात पर निर्भर करता है कि आए कहां तथा कब अर्जित अथवा प्राप्त हुई है इस संबंध में निम्नलिखित नियम उल्लेखनीय हैं

  • निवासी करदाता की कुल आय का क्षेत्र – एक निवासी करदाता की कुल आय में निम्नलिखित में शामिल की जाती हैं चाहे वह किसी भी साधन से प्राप्त की गई हो
      1. गत वर्ष में करदाता द्वारा या उसकी ओर से भारत में प्राप्त हुई अथवा प्राप्त हुई मारी गई समस्त आ य
      2. गत वर्ष में करदाता को भारत में ऊपर जीत या उदय हुई अथवा ऊपर जितिया उदय मानी गई आय
      3. गत वर्ष में करदाता को भारत के बाहर उपार्जित या उदय हुई समस्त आ य
  • असाधारण निवासी करदाता की कुल आय का क्षेत्र – एक असाधारण निवासी की कुल आय में निम्नलिखित आय का सम्मिलित किया जाता है
      1. गत वर्ष में करदाता द्वारा या उसकी ओर से भारत में प्राप्त हुई अथवा प्राप्त हुई मानी गई समस्त आय
      2. गत वर्ष में करदाता को भारत में उपस्थित या उदय हुई अथवा ऊपर जितिया उदय मानी गई समस्त आय
      3. भारत के बाहर प्राप्त हुई या ऊपर जीत हुई किसी ऐसे व्यापार किया है जिसका नियंत्रण भारत से होता हो अथवा किसी ऐसे पैसे की आए जिसकी स्थापना भारत में हुई हो
  • अनिवासी करदाता की कुल आय का क्षेत्र – एक अनिवासी करदाता की कुल आय में निम्नलिखित आय को सम्मिलित किया जाता है
    1. गत वर्ष में करदाता द्वारा आया उसकी ओर से भारत में प्राप्त हुई अथवा प्राप्त हुई मानी गई समस्त आय
    2. गत वर्ष में कर दादा को भारत में ऊपर जितिया उदय हुई अथवा ऊपर जितिया उदय मानी गई समस्त आय

नोट – यदि कोई बिना कल लगी है जो कि गत वर्ष से पूर्व की हो तथा भारत के बाहर आ कमाई गई हो यदि गत वर्ष में भारत में लाई जाती है तो उस आय को गत वर्ष की कर योग्य आय में सम्मिलित नहीं किया जाएगा क्योंकि यह आय का हस्तांतरण है ना कि आए

कर भार से संबंधित आयकर के नियम एक दृष्टि में

  1. भारत में प्राप्त अथवा प्राप्त समझी जाने वाली आयो पर सभी करदाताओं को कर देना पड़ता है
  2. भारत में उपार्जित अथवा उपार्जित समझी जाने वाली आयो पर सभी करदाताओं को कर देना पड़ता है
  3. भारत के बाहर उपस्थित एवं प्राप्त होने वाली भारत के बाहर नियंत्रित भारत से तथा भारत के बाहर स्थापित पैसे से आयोग पर केवल निवासी करदाताओं को ही कर देना पड़ता है
  4. निवासी करदाताओं को गत वर्ष से संबंधित सभी प्रकार की देशी एवं विदेशी आयो पर कर देना पड़ता है चाहे वह आय कहीं भी ऊपर जीत या प्राप्त हुई हो
  5.  असाधारण निवासी को भारत के बाहर उपार्जित तथा प्राप्त व्यापारिक आय पर तभी कर देना पड़ता है जब व्यापार का नियंत्रण भारत से होता हो अथवा विदेश में हुई आए ऐसी पेशे से हो जिसकी स्थापना भारत में हुई हो
  6. अनिवासी को केवल भारत में प्राप्त किया भारत में उपार्जित आयो पर ही कर देना पड़ता है शेष आयोग पर कर नहीं देना पड़ता है

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Home
B/M.com
B.sc
Help
Profile
Scroll to Top