Bcom 1st Year Financial Account Framework Previous Year Question Paper 2015

Bcom 1st Year Financial Account Framework Previous Year Question Paper 2015

Bcom 1st Year Financial Account Framework Previous Year Question Paper 2015
Bcom 1st Year Financial Account Framework Previous Year Question Paper 2015

Bcom 1st Year Financial Account Framework Previous Year Question Paper 2015 :- In this post you can find the question paper of the exam b com 1st year Financial Account or Statics and other post links like as b com study materials in Hindi and English and question paper 2017-2015 and other .

 

aaaa


B.Com. 1 Year Examination, 2015 (unified Syllabus)

COMMERCE- VI ( Financial Account )

Time: 3 hrs.]                              (C-106)                                   [M.M.: 100


Note: इस – पत्र को पाच खण्डो – अ , ब , स , द , एवं इ में विभाजित किया गया है | खण्ड – अ ( लघु उतरीय प्रश्न है , जिसके दस भाग है | ये सभी दस भाग अनिबार्य है | खण्ड – ब , स , द , एवं इ ( विस्तृत उतरीय प्रश्न ) प्रत्येक में दो प्रश्न है | प्रत्येक खण्ड से एक प्रश्न कीजिए | विस्तृत उतर अपेक्षित है |

This is paper is divided into five Sections – A, B, C, D, & E Section – A ( Short Answer Questions ) contains one question of ten parts requiring short answer . all these ten parts one compulsory . Sections –B, C, D, & E (Descriptive Answer questions) each contains two questions. Attempt one question from each Section. Answer must be descriptive.

खण्ड – अ ( Section – A )

इस प्रश्न में एक प्रश्न के दस भागो के लघु अपेक्षित है | प्रत्येक भाग 4 अंक का है |

This Section Contains One Question Of Ten Parts Requiring Short Answer. Each Part Carries 4 Marks.

1 . (A) एकरूपता या संगतता सम्बन्धी परम्परा से क्या आशय है?

What Is The Meant By Convention Of Consistency?

(B) AS2 एवं AS6 का वर्णन कीजिए |

Explain The AS4 AND AS6.

(C) खाते में जर्नल प्रविष्टियाँ करने के क्या नियम है?

What Are The Rules Of Marking Journal Entries In Accounts?

(D) अशुध्दिया कास सुधार कीजिए:

Rectify The Errors:

(i)  आदिनाथ को 350 रु. का माल बेचा गया, विक्रय बही में 530 रु. लिख दिय गये |

Goods Sold To Adinath Rs. 350 Were Entered In The Sales Book As Rs. 530.

(ii) कार्यालय हेतु 2,000 रु. का नया फर्नीचर खरीदा गया, किन्तु इसका लेखा कार्यालय व्यय खाते मर कर दिया गया |

Rs. 2,000 Paid For Purchase Of New Office Furniture Charged To Office. Expenses Account.

(D) माल भेजने की सविंदा को भंग करने पर मुकदमा का क़ानूनी व्यय | पहला पूंजीगत व्यय खाते में कर दिया गया |

Rs. 2,000 Paid For Purchase Of New Office Furniture Charged To Office. Expenses Account.

(E) माल भेजने की सविंदा की भंग करने का मुकदमा का क़ानूनी व्यय | यह पूंजीगत व्यय है या आयगत व्यय? लिखित |

Legal Expenses Incurred In Depending A Suit For Breach Of A Contract To Supply Goods. It Capital Or Revenue Expenses? Write.

(F) आर्थिक चिट्ठे तथा स्थिति विवरण के बीच अन्तर बताइए |

Distinguish Between Balance Sheet And Statement Of Affairs.

(G) शोधनीय लाघुकार्य्र राशि तथा अशोधनीय लाघुकार्य्र राशि को स्पष्ट कीजिए |

Explain Short Working Recoverable And Short Working Irrecoverable.

(H) साझेदारी सलेख क्या है? इसकी विषयवस्तु क्या है?

What Is Partnership Deed? What Are Its Contents?

(I) राजा एवं ईशू साझेदार है जो लाभ एवं हानियो को 3:2 के अनुपात में विभाजित करते है | देव को 1/4 हिस्से के लिए प्रवेश दिया जाता है | राजा एवं ईशू भविष्य में बराबर-बराबर बटने का निर्णय लेते है | त्याग अनुपात तथा नया लाभ विभाजन अनुपात ज्ञात कीजिए |

Raja And Ishu Are Partners Sharing Profit And Losses In The Ratio Of 3:2. Dev Is Admitted For 1/4th Share. Raja And Ishu Decide To Share Equally In Future. Find The Sacrificing Ratio And New Profit Sharing Ratio.

(J) स्थिति विवरण के दायित्व भाग में कौन-कौन सी सूचिया दिखायी जाती है? स्पष्ट कीजिए |

What Lists Are Shown On The Liabilities Side Of The Statement Of Affairs? Explain.




खण्ड –ब , स , द , एवं इ (Sections –B, C, D, & E,)

प्रत्येक खण्ड में दो प्रश्न है | प्रत्येक खण्ड से एक प्रश्न कीजिए | प्रत्येक प्रश्न 15 अंक का है | विस्तृत उतर अपेक्षित है |

Each Section Contains Two Questions. Attempt One Question From Each Section. Each Question Carries 15 Marks. Answer Must Be Descriptive.

खण्ड – ब (Section –B)

 2 . कारण सहित बताइए की निम्नलिखित व्यय पूंजीगत है अथवा आयगत:

Mention The Reasons Whether The Following Expenditures Are Capital Or Revenue:

(I) एक अनुबन्ध के भंग होने पर क्षतिपूर्ति |

Compensation Paid In Breach Of A Contract.

(Ii) पुराने संयन्त्र को प्रतिस्थापित करने को व्यय |

Replacement Cost Of An Old Plant.

(Iii) माल के क्रय पर गाड़ी भाडा दिया गया |

Carriage Paid On Goods Purchased.

(Iv) नयी मशीन लगाने का व्यय |

Wages Paid In The Erection Of New Machine.

(V) मजदूरों के कल्याणार्थ किये व्यय |

Labour Welfare Expenses.

अथवा

3 . निम्नलिखित तलपट से निम्नलिखित तलपट से 31 मार्च, 2015 को समाप्त होने वाले वर्ष के लिए वेदप्रकाश एण्ड कम्पनी का व्यापार एवं लाभ-हानि खाता तथा उसी तिथि को चिट्ठा बनाइए:

Prepare Trading And Profit & Loss A/C For The Year Ended 31 March, 2015 And Balance Sheet Of Ved Prakash & Company As On That Date From The Following Trial Balance:

विवरणDr./नाम (Rs.)Cr./नाम (Rs.)
पूँजी खाता76,000
देय बिल15,800
विक्रय110,000
क्रय70,000
माल लौटाया5,000
आवक ढुलाई1,500
वेतन एवं मजदूरी14,000
किराया दर एवं कर2,800
बीमा500
बट्टा800
बैंक13,700
प्लाण्ट एवं मशीनरी12,000
विनियोग8,000
फर्नीचर5,000
प्राप्य बिल45,500
हाथ में रोकड़1,000
विविध व्यय500
प्रारम्भिक रहतिया31,500
योग Total2,06,8002,06,800

 

समायोजनाए: Adjustments:

(I) अन्तिम स्टाँक को 65,000 रु. पर मुल्याकिंत करना है |

Closing Stock To Be Values Rs. 65,000,

(Ii) 2,500 रु. वेतन के देने है |

Salaries To Be Paid Rs 2,500.

(Iii) प्राप्य बिल में से रु. 1500 की राशि अपलिखित की जानी चाहिए |

A Sun Of Rs. 1,500 Should Be Written Off As Bad Debts Out Of Bills Receivable.

(Iv) 13.03.2015 को गोदाम में आग लग गयी | स्टाँक की हानि 7,000 रु. आकी गयी है | बीमा कम्पनी ने 5,000 रु. का दावा स्वीकार किया है |

A Fire Took Place In The Godown On 13.03.2015. The Loss Of Stock Was Estimated At Rs. 7,000. The Insurance Company Admitted Claims To The Extent Of Rs. 5,000.

(V) प्रबन्धक को उस कमीशन के घटाने के बाद बचे शुध्द लाभ का 10% कमीशन दिया जाना है |

The Manager Is To Be Paid A Commission At 10% Of Net Profit Charging Such Commission.




खण्ड – स ( Section  – C )

4 . मि. पी. कुमार दिवालिया है | वे 31 मार्च, 2015 को आपको निम्नलिखित सुचनाएँ प्रदान करते है:

Mr. P. Kumar Is Insolvent. He Furnishes To You The Following Information As On March 31, 2015:

रु./Rs.
माल के लिए लेनदार

Creditors For Goods

52,500
मजदूरों की मजदूरी

Wages Of Labours

700
स्थानीय सता को कर का भुगतान

Taxes Due To Local Authority

2,100
बैंक ऋण ( 35,000 रु. के स्टाँक पर गृहणाधिकार दुवारा सुरक्षित )

Bank Loan ( Secured By Lien On Stock Of The Book Value Of Rs. 35,500 )

17,500
बैंक में रोकड़

Cash At Bank

100
फर्नीचर ( अनुमानित वसूली 3,500 रु. )

Furniture ( Estimated To Realize Rs. 3,500 )

7,000
स्टाँक ( अनुमानित वसूली 60% )

Stock ( Estimated To Realize 60% )

52,500
पुस्तकीय ऋण अच्छे

Book Dedts Goods

7,000
पुस्तकीय ऋण संदिग्ध अनुमानित वसूली 40%

Book Dedts Doubtful Expected To Realize 40%

17,500
प्राप्य बिल डूबत 5,250 रु.

Bills Receivable Rs. 5,520 Bad

8,750
भुनाए गये बिल डूबत 3,500 रु.

Bills Discounted  Rs. 3,500 Bad

10,500
श्रीमती पी. कुमार से ऋण

Loan From Mrs. P. Kumar

17,500

 

मि. पी. कुमार ने छ: वर्ष पूर्व 43.750 की पूँजी से व्यवसाय प्रारम्भ किया था | उन्होंने 8,750 रु. प्रत्येक वर्ष आहरण किया था | श्रीमती पी. कुमार ने अपने 7,000 रु. के आभूषण प्राव्यक के लिए छोड़ दिए | व्यवसाय से उत्पान्न शुध्द लाभ 11,300 रु.| श्री पी. कुमार का स्थिति विवरण तथा कमी खाता बनाइये |

Mr. P. Kumar Commenced Business Six Years Argo With A Capital Of Rs. 43,750. His Drawings Rs. 8,750 Each Year. Mrs. P. Kumar Gave Up Her Ornaments Value At Rs. 7,000 To The Receiver. Net Profit Arising From Business Amounted To Rs. 11,300.

Prepare The Statement Of Affairs And Deficiency Account Of Mr. P. Kumar.

अथवा

5 . दिवालिया अधिनियम के अनुसार एक स्थिति विवरण का प्रारूप अनुमानित अंको के आधार पर बनाइए तथा कमी का खाता किस प्रकार बनाया जाता है नमूना दीजिए |

According To Insolvency Act Prepare A Proforma Of A Statement Of Affairs Using Imaginary Figures And How Deficiency Accounts Is Prepared Give A Sample.

खण्ड – द ( Section – D )

6 . मि. वाई ने जुलाई | , 2010 को 7 ट्रक किराया क्रय पध्दति के आधार पर खरीदे | एक ट्रक का नकद मूल्य 50,000 रु. था | उसे नकद क्रय मूल्य का 20% ट्रक लेते समय शेष पांच अर्ध्दवार्षिक किस्तों में किस्तों में 31.12.2010 से प्रारम्भ करते हुए 5% वार्षिक ब्याज के साथ भुगतान करना था |

30.06.2011 को देय क़िस्त का भुगतान नही के कारण यह तय हुआ की वाई विक्रेता को तीन ट्रक वापस कर देगा और चार ट्रक उसके दुवारा रख लिये जायेगें | विक्रेता इन तर्को के लिए चुकायी गयी राशि के लिए 25% से घटाकर उसे ( क्रेता को ) जमा करने के लिए सहमत हो गया |

वाई की पुस्तक में आवश्यक खाते आवश्यक खाते दिखाइये यह मन ले की उसके खाते प्रत्येक वर्ष जून में बन्द होते है एवं ट्रक पर 20% की दर से ह्रास काटा जाता है |

Mr. Y Purchased 7 Trucks On Hire Purchase System On July 1, 2010. The Cash Price At Time Of Delivery Of Each Truck Was Rs. 50,000 Each. He Was To Pay 20% Of The Cash Purchase Price On Delivery And The Balance In 5 Helf Yearly Instalments  Starting From 31-12-2010 With Interest @ P.A.

On Y;S Failure To Pay Remaining 4 World Be Retained By Him. The Vender Agreed To Allow Him A Credit For The Amount Paid Against These 3 Trucks Ess 25%.

Show The Relevant Accounts In The The Book Of Y Assuming That Books Are Closed Jne Every Year And Depreciation @ 20% Is Charged On Trucks.

अथवा 

(7) सवतंत्र शाखा से आप क्या समझते है | मुख्य कार्यालय की पुस्तकों में शाखा तलपट को समामेलित करने के लिए जर्नल के कौन से लेखे किये जाते है ?

What do you mean by independent branch ? What jaornal entries are made in the books of head office to incorporate branch trial balance?

खण्ड -इ  Section-E 

(8) . 1 जनवरी, 2010 को श्री प्रदीप ने 24,000 रु. प्रतिवर्ष न्यूनतम किराये पर कुछ तेल के कुए पट्टे पर लिए, अधिकार शुल्क की राशि निकले गये तेल पर 1 रु. प्रति टन है | प्रत्येक वर्ष की लघुकार्य राशि को अगले दो वर्षो में अपलिखित किया जा सकता है परन्तु शर्त यह है की यदि लाघुकार्य्र होने वाले वर्ष के वाद वाले वर्ष में उस लघु राशि को अपलिखित न किया ज सके ति बिना अपलिखित लघु राशि के 50% को अगले वर्ष में अपलिखित करने का अधिकार श्री प्रदीप की नहीं होगा | प्रथम चार वर्षो की तेल निकासी इस प्रकार हुई : प्रथम वर्ष में 6,000 टन, द्रितीय वर्ष में 15,000 टन, तृतीय वर्ष में 30,000 टन और चौथे वर्ष में 28,000 टन |

श्री प्रदीप की पुस्तकों में आवश्यक खाते खोलिये |

On January 1, 2010 Mr. Pradeep Acquired A Lease Of Certain Oil Wells At A Minimum Rent Of Rs. 24,000 Per Annum, Merging Into A Royalty Of Rs. 1 Per Tonne Of Oil Taken Out. The Shortworkings Wre Recov Earble In Next Two Years Of Such Shortworkings Only, But On Condition That If Full Shortworking, Could Not Be Recovered In The Next Year The Shortworjing Mr. Padeep Will Loose His Right To Recover 50% Of The Unecovered Balance Of Short-Worlings.

The Output Of First Year 6,000 Tone, 15,000 Tonne For The Second Year, 30,000 Tonne For Thw Third Year And 28,000 Tonne For The Founth Year.

Prepare Necessary Accounts In The Books Of Mr. Pradeep:

अथवा

9 . राम एवं श्याम साझेदारी में है जो 3/5 और 2/5 के आनुपात में लाभ-हानि बाटते है | 31 मार्च, 2014 को उनका आर्थिक चिट्ठा निम्नकिंत था :

Ram And Shyam Are In Partnership Sharing Profits & Losses In Proportion Of 3/5 And 2/5 The Following Was Their Balance Sheet As On 31 March, 2014 :

दायित्व Liabilitiesरकम Amountsसम्पतियाँ Assetsरकम Amounts
लेनदेन Creditors2,640नकद Cash1,815
सम्भावित दायित्व के लिए संचय

Reserve For Contingencies

2,500विनियोग Investments10,400
बैंक ऋण Bank Loan5,000देनदार Debtors9,800
पूँजी खाते Capital A/Cरहतिया Stock4,375
राम Ram30,000भवन Freehold Building22,500
श्याम Shyam10,000फर्नीचर Furniture1,250
50,14050,140

 

उन्होंने इस तिथि को साझेदारी खत्म करने का निर्णय किया एवं नकद तथा विनियोग को छोड़कर सम्पतिया को 34,500 रु. में बेच दिया | विनियोग जिसका बाजार मूल्य अथिक चिट्ठे को तिथि पर 11,000 रु. था, श्याम ने इसी मूल्य पर ले लिया एवं बैंक ऋण को चुकाने के लिए भी तैयार हो गया | समापन व्यय 550 रु. हुए | लेनदारो को 2,515 रु. पूर्ण भुगतान में चुकाया गया |

वसूली खाता, रोकड़ एवं साझेदारी का पूँजी खाता बनाइये |

They Decided To Dissolve Partnership On This Date And The Assets, With The Exemption Of The Investment And Cash, Were Sold Rs. 34,500. The Investments, The Market Value Of Which At The Date Of The Balance Sheet Was  Rs. 11,000 Were Taken Over At The Amount By Shyam, Who Also agreed To Discharge The Bank Loan. The Expenses Of Winding Up We rew Rs. 550, The Creditors Were Paid Rs. 2,515 In Full Settlement. You Are Required To P[Rep[Are The Realization A/C, Cash A/C And Parether;S Capital A/C.







You may also Like

B Com Study Material in Hindi

B Com Question Paper in Hindi and English

Follow Us on Social Platforms to get Updated : twiter,  facebook, Google Plus

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Home
B/M.com
B.sc
Help
Profile
Scroll to Top