Bcom 2nd Year Definition of Tax Planning Hindi Notes

Bcom 2nd Year Definition of Tax Planning Hindi Notes

Bcom 2nd Year Definition of Tax Planning Hindi Notes :- This post we have uploaded about tax planning.. its chapter of bcom second year income tax subject. in this subject we learn how  many type tax in business and company

Bcom 2nd Year Definition of Tax Planning Hindi Notes
Bcom 2nd Year Definition of Tax Planning Hindi Notes

कर नियोजन का अर्थ एवं परिभाषा – 

कर नियोजन का सरल शब्दों में कर नियोजन से आशय आयकर संबंधी नियमों एवं प्रावधानों को ध्यान में रखते हुए आए को इस प्रकार नियोजित करना है कि कम से कम आय कर दायित्व उत्पन्न हो एवं कम से कम आयकर का भुगतान करना पड़े ऐसा करने के लिए उसे आयकर नियमों का गहन अध्ययन करके उनमें उपलब्ध छूट एवं प्रेरणाओं की जानकारी करनी होगी तभी वह प्रभावपूर्ण कर नियोजन कर सकता है




कर नियोजन के आवश्यक तत्व या विशेषताएं

  • कर नियोजन नियमों प्रावधानों एवं अधिसूचनाओं के अंतर्गत किया जाता है अतः कर नियोजन वैधानिक है
  • वैधानिक होने के कारण कर नियोजन को नैतिक क्रिया माना जाता है
  • कर नियोजन से आयकर दायित्व में कमी आती है फल स्वरुप आय में वृद्धि होती है
  • क्योंकि आय यंत्र समय अंतराल में प्राप्त होती रहती है इसलिए कर नियोजन एक सतत प्रक्रिया है
  • क्योंकि कर नियोजन सतत प्रक्रिया है फल स्वरुप अल्पकालीन एवं दीर्घकालीन दोनों ही प्रकार से कर नियोजन किया जा सकता है
  • कर नियोजन में आय व्यय एवं विनियोग का  नियोजन होता ह
  • कर नियोजन के विभिन्न स्वरूप होते हैं
  • कर नियोजन का आधार उपलब्ध छूट राहत कटौतियों एवं प्रोत्साहन होते हैं

कर नियोजन के उद्देश्य –

  • कर दायित्व में कमी करना
  • विवादों में कमी करना
  • उत्पादक विनियोग को प्रोत्साहन
  • लागत में कमी करना
  • रोजगार में वृद्धि करना
  • आर्थिक स्थिरता लाना
  • अर्थव्यवस्था का स्वास्थ्य विकास करना




कर नियोजन का महत्व– कर नियोजन केवल कर भुगतान करने वाले करदाता के लिए ही महत्वपूर्ण नहीं है बल्कि यह समाज देश व्यापार उद्योग आदि के लिए भी लाभदायक है

करदाता के लिए- करदाता कल नियोजन द्वारा अपने कर दायित्व को कम करता है इस उद्देश्य के लिए वह अधिनियम में दी गई छूट राहत तथा स्वीकृत कटौतियों का लाभ प्राप्त करता है वह ऐसी योजनाओं में अपनी बचत का निवेश करता है जहां से उसे अधिकतम कर लाभ प्राप्त होते हैं

समाज के लिए– समाज को भी कर नियोजन से अनेक लाभ प्राप्त होते हैं बचत राशि का उद्योग में निवेश किया जाता है नई औद्योगिक इकाई रोजगार के अवसर प्रदान करती हैं इससे वस्तुओं की मांग में वृद्धि होती है परिणाम स्वरुप लोगों का जीवन स्तर बेहतर होता है

देश के लिए- सरकार ने लास्ट की प्रगति के लिए विकासशील योजनाएं शुरू की है व्यक्तियों को बचत तथा निवेश के लिए प्रोत्साहित करके योजनाओं के लिए पूंजी में वृद्धि की जा सकती है इससे सरकारी आगम पर बोझ कम पड़ता है

उद्योग तथा व्यापार के लिए – कल योजनाओं द्वारा सरकार लोगों को देश के विभिन्न भागों का संतुलित विकास करने के लिए प्रेरित करती है यदि एक औद्योगिक उपक्रम पिछड़े जिले या पिछड़े राज्य में स्थापित हो जाए तो इससे होने वाली आय का कुछ प्रतिशत विशेष अवधि तक इन राज्यों तथा जड़ों के विकास के लिए खर्च किया जा सकता है

कर नियोजन कर बचाने का एक वैधानिक एवं नैतिक तरीका है इस कथन को समझाइए एवं इसके महत्व का वर्णन कीजिए कर नियोजन कर अपवंचन से किस प्रकार भिन्न है

दिया गया कथन कर नियोजन कर बचाने का एक वैधानिक एवं नैतिक तरीका है वास्तव में सत्य है कर नियोजन एक तकनीक है जिसके द्वारा एक व्यक्ति अपनी कर दायित्व संविधान के प्रावधान का किसी प्रकार उल्लंघन किए बिना कम करता है  

कर अपवंचन या कर चोरी

कर अपवंचन कर अधिनियम का उल्लंघन कर के कर दायित्व को कम करने अथवा करदा की से बचने का एक तकनीक है यह पूर्णता अवैधानिक है जो करदाता कर अपवंचन करता है उसे आर्थिक दंड के रूप में अथवा कारावास के रूप में दंडित किया जा सकता है कर अपवंचन जानबूझकर पूर्ण चालाकी के साथ तथा सरकार को धोखा देने के उद्देश्य से किया गया कर अधिनियम का स्पष्ट उल्लंघन है कर अपवंचन सामान्यतः दो प्रकार से किया जा सकता है प्रथम अवैध तरीके से अर्जित आय को कर विवरणी में न दिखाकर एवं द्वितीय कर विवरणी में गलत एवं धार्मिक सूचनाएं देकर कर योग्य आय में कमी करके अथवा गलत कटोरियों कटौतियों का दावा करके कर वंचना की जा सकती है इस प्रकार कर वंचना में निम्नलिखित तत्व समाहित है

  • कल प्रावधानों का उल्लंघन करके कर वंचना की जाती है
  • कर वंचना अनैतिक एवं अवैधानिक है फलस्वरुप पकड़े जाने पर करदाता को आर्थिक एवं अपराधिक दोनों प्रकार से दंड से दंडित किया जा सकता है
  • कर वंचना से सरकार व देश को आर्थिक हानि होती है तथा काली अर्थव्यवस्था का उदय होता है



कर वंचना करने के कुछ उदाहरण –

  • आय को छिपाकर अर्थात कर योग्य आय का विवरण रिटर्न में नहीं लिखना
  • कृत्रिम एवं जुड़े खर्चे भाई खातों में लिखकर आए को कम करना
  • व्यक्तिगत एवं पारिवारिक खर्चों को व्यापारी खर्चों के रूप में डेबिट कर के लाभ को कम करना जैसे व्यक्तिगत उपयोग में आने वाली कार के पेट्रोल आदि के खर्चे टेलीफोन में बिल नहीं जी यात्रा व्यावहारिक मत्त दे कई व्यापारी बही खातों के व्यापारिक खर्चों के रूप में लिखकर अपने लाभ को कम दर्शाते हैं
  • स्टॉक का मूल्यांकन कम कर के यह वास्तविक डूबत ऋण एवं हानियों को अपलिखित करके
  • कम बिक्री दर्शाकर अर्थात बिना बिल काटे माल बेचना
  • अंशु आदित्य विक्रम हस्ताक्षर पर होने वाले लाभों को छुपाना
  • अधिक मूल्य पर अचल संपत्ति का विक्रय एवं कम मूल्य पर उसका पंजीकरण करवाना एवं अंतर की राशि पर कर बचाना
  • निकट के रिश्तेदारों को कृत्रिम वेतन एवं ब्याज का भुगतान
  • रिश्तेदारों के नाम संपत्ति का कृत्रिम हस्ताक्षर करके उस संपत्ति से होने वाली आय को अपनी आय में शामिल नहीं करना
  • जूती कटौतियों प्राप्त करना है जैसे कुछ कर दाता दान की कृत्रिम रसीद बिना दान दिए प्राप्त करके धारा 80 जी की कटौती प्राप्त कर लेते हैं इसी प्रकार निर्यात व्यापार के लाभ को बढ़ाकर एवं आंतरिक व्यापार के लाभ को कम दर्शाकर निर्यात संबंधी छूट प्राप्त कर ली जाती है

निष्कर्ष – कर अपवंचन में केवल अवैधानिक है बल्कि यह अनैतिक समाज विरोधी तथा राष्ट्र विरोधी है इसलिए प्रत्यक्ष कर अधिनियम में कर वंचना करने वाले व्यक्तियों पर भारी अर्थदंड लगाने एवं सजा देने के प्रावधान बनाए गए हैं

कर नियोजन एवं कर अपवंचन में अंतर

  • कर नियोजन के अंतर्गत वैधानिक प्रावधानों का पालन किया जाता है जबकि कर अपवंचन के अंतर्गत वैधानिक प्रावधानों का उल्लंघन किया जाता ह
  • कर नियोजन के माध्यम से कुछ सामाजिक एवं आर्थिक उद्देश्यों की पूर्ति की जाती है जबकि कर अपवंचन एक वैधानिक अपराध है जिसके करने पर आर्थिक दंड एवं सजा मिलती है
  • कर नियोजन के लिए आयकर अधिनियम 1961 आयकर नियमों राजकीय अधिसूचनाओं न्यायालयों के निर्णय एवं संबंधित वित्त अधिनियम की गहन जानकारी आवश्यक है परंतु करप्शन के लिए दुस्साहस की आवश्यकता होती है
  • कर नियोजन के माध्यम से देश की आर्थिक विकास होता है जबकि कर अपवंचन से काला धन उत्पन्न होता है
  • कर नियोजन को वैधानिक एवं नैतिक कहा जाता है जबकि कर वंचना अनैतिक एवं अवैधानिक है
  • कर नियोजन अपनाने वाला भयमुक्त रहता है जबकि कर वंचना करने वाला समय छात्रों एवं दंड के भय से घिरा रहता है




B Com Study Material in Hindi

B Com Question Paper in Hindi and English

Follow Us on Social Platforms to get Updated : twiter,  facebook, Google Plus

1 thought on “Bcom 2nd Year Definition of Tax Planning Hindi Notes”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Home
B.com
M.com
B.sc
Help